दो भैये वाचमेन और मेरी सेक्सी बहन

बंगले के पीछे की साइड में खड़े हो के मैं आज फिर से अपनी बहन को देखा. वाचमेन ने उसके लिए गेट खोला और वो दोनों खड़े हुए कुछ बातें करने लगे. मेरे एक दोस्त ने मुझे कहा था की तेरी बहन मानसी का चक्कर लगता हे वाचमेन के साथ. मैंने तब दोस्त के साथ झगड़ा सा कर लिया था. लेकिन उस दिन से मैं अपनी बहन के पीछे पड़ा था और उसकी वाच रख रहा था. मानसी 26 साल की हे और अपनी पीटीसी करने के बाद वो एक प्राइमरी स्कुल में पढ़ाती हे. पापा ने उसे जॉब प् आने जाने के लिए स्कूटी ला दी हे उसके ऊपर ही वो घुमती रहती हे.

मानसी हम तिन भाई बहनों में सब से बड़ी हे और घर में बहुत फ्रीडम हे उसे. माँ तो कभी कुछ कहती ही नहीं. पापा भी नहीं कहते हे उसे. वाचमेन का नाम शंकर हे और वो एक युपी का बन्दा हे. उसकी एज 30 साल के करीब हे और वो सोसायटी के गेट पर दिनभर पहरा देता हे और रात को सोसायटी के कौने में एक टेम्पररी मकान में रहता हे. वो दिखने में हट्टा कट्टा हे और डेली मोर्निंग में वो दौड़ लगाता हे और डेढ़ दो घंटे तक अपने बदन को कसने के लिए वर्जिश करता हे. वाचमेन से बात कर के मेरी बहन घर पर आ गई. मैं भी आगे आ गया.

मानसी वहां से नहाने के लिए चली गई. और मैं भी अपने काम में लग गया. वो दोनों के बिच में कुछ तो बात हुई थी. और मानसी भी हंस हंस के कुछ कह रही थी उसे.

शंकर की ड्यूटी ख़त्म हुई शाम को. और मैं छत पर बैठे हुए अपने मोबाइल पर फनी वीडियो देख रहा था. मैंने देखा की वो हमारे घर की तरफ देख रहा था. उसने वर्दी की ऊपर की जेब से फोन निकाला. दूसरा सिक्यूरिटी वाला हट में घुसा और शंकर ने अपने मोबाइल को बहार निकाल के किसी को मिस कॉल दी. मेरे दिल की धडकन तेज तेज चलने लगी. मैं समझ गया की ये साला मेरी बहन को ही मिस कॉल कर रहा होगा. मैं चुपके से निचे उतरा. मानसी निचे हॉल में थी. मैं उसके आगे घर से निकल गया ताकि उसको शक ना हो. सोसायटी से बहार निकल के मैं एक ट्रक के पीछे अपनी बाइक को पार्क कर के छिप गया.

कुछ देर में शंकर कपडे चेंज कर के वहां आया. और वो पैदल ही आगे जाने लगा. मुझे लगा की शायद मुझे गलतफहमी हुई थी. मैंने सोचा की दो मिनिट और रुक जाता हूँ.

और तभी मेरी बहन के एक्टिवा की हॉर्न सुनाई पड़ी. मानसी अपने चहरे के ऊपर दुपट्टे से मुहं को छिपा के निकली. और मैंने भी अपनी बाइक को चालु कर के उसके पीछे लगा दी इतने फासले पर की उसे शक ना हो. वो चली और शंकर एक साइड में खड़ा हुआ था. शंकर मेरी बहन के पीछे बैठ गया और मानसी ने अब तेजी से एक्टिवा को भगाई. मेरी भी यामाहा गाडी थी! मैं उसके पीछे ही था. 10-12 सोसायटी के बाद मानसी ने गाडी एक कच्ची रोड पर ले ली. वहां पर एक बिल्डिंग बन रहा था उसके बहार उसने गाडी को रोकी. मैं दूर ही पार्क कर दी अपनी बाइक को. फिर मैंने देखा की मानसी और शंकर दोनों हाथ पकड के किसी तीसरे आदमी से मिले. शायद वो उस बिल्डिंग का वाचमेन था.

मानसी उन दोनों को ले के इस अधूरी बिल्डिंग में चढ़ी. मैं भी पीछे चुपके से चला गया. मानसी को ले के वो दोनों वाचमेन ऊपर एक कमरे में गए. वो कमरा कोंक्रिट वाल का स्ट्रक्चर था अभी तो जिसमे कोई खिडकी दरवाजे नहीं थे. खिड़की के पास आड़ के लिए इंटे रखी हुई थी. मैं दबे पाँव ऊपर आया और इंटों के बिच की गेप से अन्दर देखा. बाप रे मानसी तो आलरेडी अपने घुटनों के ऊपर थी और उसके दोनों हाथ में एक एक लंड था. वो शंकर के और उसके इस दोस्त के लंड को हिला रही थी.

शंकर: अर्जुन मैंने मानसी को सुबह ही कहा था की तेरी साईट पर दो दिन के लिए काम बंद हे.

अर्जुन: हां यार अच्छा किया वैसे भी मेडम को चोदे हुए काफी दिन हो गए हे. मैं तो रोज इनके नाम की मुठ मारता हूँ.

मानसी: अरे मैं होटल्स में नहीं जा सकती ना वरना मैं तो रोज इन लंड के लिए अपने नाड़े को खोल देती.

अर्जुन ने अब मेरी बहन के माथे को पकड़ा और उसे अपने लंड की तरफ किया. मानसी ने मुहं को खोल के उसके लंड को मुहं में ले लिया और सक करने लगी. शंकर के लोडे को तब वो अपने हाथ में पकड़ के हिला रही थी. दोनों वाचमेन के लंड काले और 7 इंच जितने थे. अर्जुन का लंड शंकर से थोडा मोटा था. मेरी बहन इन दोनों टपोरी जैसे वाचमेन के लंड को ऐसे भोग रही थी जैसे ये दुनिया के दो आखरी लंड थे जिसे वो प्यार दे रही थी.

अर्जुन ने मानसी के माथे को पकड़ा और बाल को उँगलियों में ले के वो अब जोर से मानसी के माउथ को चोदने लगा. मानसी के गले तक लंड को भर के वो ठोक रहा था. और मानसी भी अग्ग्गग्ग्ग्ग अग्ग्ग्गग्ग्ग्ग अग्ग्गग्ग्ग ग्गग्ग्ग का साउंड से लंड को गले तक डलवा रही थी. और शंकर के लोडे को वो हिला रही थी. अर्जुन की आँखे बंद हो गई थी इस मस्त माउथ फकिंग की वजह से. शायद मानसी ने लंड के ऊपर अपने होंठो से इतनी मस्त ग्रिप बनाई थी की उसको खूब आनंद आ रहा था.

तभी मानसी ने अपने मुहं को खोला. उसका मुहं पूरा वीर्य से गन्दा हुआ पड़ा था. अर्जुन के लंड का पानी छुडवा दिया था मेरी प्यारी बहन ने. अर्जुन ने मानसी की नाक पकड़ी और उसे अपनी सब मुठ पिला दी. मानसी ने मुहं को अपने हेन्की से साफ़ किया. तब तक शंकर अपने लंड को उसके मुहं के पास ले आया था. शंकर के लंड को उसने मुहं में डाला और चूसने लगी.

और उधर अर्जुन ने एक फटी हुई डरी को निचे डाला. शंकर का लंड मुहं में रख के मेरी बहन उसके ऊपर बैठी. अर्जुन ने उसकी जींस के बटन को खोला और जींस को खिंच लिया. साथ में उसने अन्दर की पेंटी को भी निकाल लिया. मानसी की चूत एकदम क्लीन शेव्ड थी. और अर्जुन ने अब अपने माथे को मेरी बहन की चूत में घुसा दिया. वो मानसी की चूत को चाटने लगा था. मानसी के गले में फिर एक लंड था और वही ग्गग्ग्ग्ग कस साउंड आने लगे. मानसी एक हाथ से शंकर के लोडे को पकड़ के उसे चूस रही थी. और दुसरे हाथ से वो अर्जुन के बालों में प्यार से उंगलियाँ घुमा रही थी. और अर्जुन मेरी बहन के पालतू कुत्ते के जैसे उसकी चूत को चाट रहा था. मानसी को दोनों टांगो को उसने पूरा खोल दिया था. और जबान को चूत के ऊपर ऐसे घिस रहा था जैसे वो आइसक्रीम खा रहा हो.

मानसी एकदम चुदासी हो के शंकर के पुरे लंड को मुहं में घुसेड के चूसने लगी थी. और तभी अर्जुन ने कहा: शंकर उसकी बुर गीली हो गई हे आजा, तू पहले लेगा?

शंकर ने मानसी के मुहं से लंड को निकाला और मानसी ने अपनी चूत के ऊपर थोडा थूंक लगाया. शंकर का लंड पहले से ही गिला था उसके थूंक से. मानसी की दोनों टांगो के बिच में बैठ के शंकर ने अपने लंड को चूत पर रख दिया. मानसी ने अपनी दोनों टांगो को शंकर की कमर के दोनों तरफ लगा के जैसे उसे गाँठ में बाँध लिया. फिर शंकर ने धक्का मार के मेरी बहन की चूत में लंड डाला. अर्जुन खड़ा हुआ और उसके आधे खड़े हुए लंड को मेरी बहन ने फिर से अपने मुहं में भर लिया.

अब निचे मानसी शंकर के लोडे से चुदवा रही थी और ऊपर अर्जुन के लंड को चूस रही थी. मेरी सेक्सी बहन को ऐसे चुदते हुए देख के मेरा लंड भी कुलबुला रहा था. मैंने अपने हाथ से ज़िप खोली और लंड को बहार निकाला और वही खड़े हुए उसे मसलने लगा.

कुछ देर में अर्जुन के लंड को मेरी बहन ने फिर से कडक कर दिया. और शंकर ने उसके बूब्स को चूस के उसे खूब चोदा.

अब शंकर निचे लेट गया. मानसी अपनी चूत पसार के उसके ऊपर आ गई. शंकर के लंड को चूत में ले के मेरी बहन गांड हिला रही थी. तभी अर्जुन उसके पीछे आ गया. उसने मानसी को रोका और उसकी गांड के ऊपर थूंक दिया उसने. मानसी ने अपनी गांड में जैसे हवा भर के उसे पीछे की साइड खोला. उसकी गांड के छेद पर अर्जुन ने थोडा और थूंक लगाया और फिर अपने लंड को गांड पर रख के धकका मारा. मुझे लगा की मानसी की गांड फाड़ देगा वो लोडा. लेकिन आराम से आधा लंड घुस गया मेरी बहन की गांड के अन्दर. आधे लंड से ही अर्जुन उसकी गांड मारने लगा.

शंकर ने भी वापस धक्के लगाने चालू कर दिए थे निचे से. अब मेरी बहन दो वाचमेन के लंड के बिच में सेंडविच बन के डबल पेनेट्रेशन करवा रही थी.

इधर बहन को ऐसे दो दो लंड से चुदते हुए देख के मेरा तो लोडा मुझे पागल कर रहा था. मैंने अपने मोबाइल को निकाला और उसके केमरे को ईंटो के बिच में सेट कर के अपने बहन के सेक्स की मूवी बनाने लगा. साथ में मोबाइल की स्क्रीन पर बहन का लाइव चोदन भी दिख रहा था मुझे.

अर्जुन फच फच मारता गया आधे लंड से ही. और फिर कुछ देर में उसने मानसी के बूब्स को पकड के एक जोर का धक्का मारा. उसका लोडा पूरा मेरी बहन की हॉट गांड में घुस गया. मानसी ने एक जोर की आह निकाली और फिर किसी पोर्नस्टार के जैसे अपनी चुत्त्ड हिला के वो दोनों छेद चुदवाने लगी. उसकी गांड हिल रही थी और उसके अन्दर अर्जुन का लोडा बवाल मचा रहा था.

तभी शंकर ने अर्जुन को इशारा किया. अर्जुन ने लंड निकाल लिया गांड से. अब तीनो खड़े हो गए. अर्जुन अब आगे आ गया. उसने मेरी बहन को अपनी गोदी में उठा लिया. मानसी ने दोनों हाथ को अर्जुन के गले में और दोनों टांगो को उसकी कमर के चारो तरफ कर लिया और वो उसके ऊपर लटक सी गई. अर्जुन का लंड इस वक्त उसकी चूत में था.

शंकर मेरी बहन के पीछे आ गया और उसने अपने लोडे को मानसी की गांड में डाल दिया. अब दोनों हिला हिला के मेरी बहन को किसी रंडी के जैसे चोद रहे थे. और मेरी बहन अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह अह्ह्ह यह्ह्ह्हह अय्ह्हह्ह अह्ह्ह्यस्स्स्स कर के अपनी गांड को हिला रही थी.

दोनों वाचमेन ने मेरी बहन को पांच मिनिट चोदा और मैंने मोबाइल में क्लिप बना ली. फिर मैंने वही पर खड़े हुए अपने लंड को हिला लिया. फिर मैंने अन्दर गया और बोला, साली रंडी यहाँ इन गंदे लंड को लेने के लिए आती हे, आज पापा को सब बोलता हूँ.

ये कह के मैं बिल्डिंग से निकल गया. और अपनी बाइक ले के घर पर आ गया. मानसी भी मेरे पीछे अपनी एक्टिवा ले के भागी. उसने बहुत ट्राय किया लेकिन मैं पकड़ा नहीं जा सका. सोसायटी में घुस के मैंने बाइक पार्क की और अपनी बहन की वेट करने लगा. वो आई तो एकदम घबराई सी हुई थी.

मुझे देख के वो बोली, गोलू (मेरा पेट नेम) प्लीज़ पापा को कुछ मत कहना वो मेरे ऊपर बहुत तट्रस्ट करते हे.

मैंने कहा, और तुमने इन भैयों के लंड लेने के उस ट्रस्ट की माँ बहन एक कर डाली.

मानसी कुछ नहीं बोली, मैं वैसे अपनी बहन को चोदना ही चाहता था.

वो एक मिनिट रुक के बोली, गोलू प्लीज़ तू जो कहेगा वो करुँगी मैं!

मैंने कहा, चलो ऊपर मेरे बेडरूम में.

वो चुपके से मेरे आगे निकल के मेरे बेडरूम में गई.


Online porn video at mobile phone


chachi ko bathroom me chodacinema hall me chudaisagi mami ko chodagalti se chud gayigf chudai kahanikavita ki gand marihindisexystorygangbang ki kahanihindi chudai kahani hindi fontpadosan ki chudai hindi storybhai behan chudai story in hindixxx hindi kahanipussy story in hindipadosan aunty ki chudaigf ki chudai kahanibheed me chudaichudai ka shaukbabita bhabhi ki chudaimassage karke chodagaandu storieshindi sexy story in trainchut ka darshandost ne maa ko chodasex story aunty hindifree porn stories in hindiaunty ki sex storyhindhi sexi storysali ki gand marisister and brother sex story in hindijija sali ki chudai ki storiesread hindi sex storiesmaa ki chudai mere samnehindi sexy sotrymausi sex storymausi ki betimaa ki chudai sex story hinditeacher ki chudai hindi sex storiessasur bahu sex story in hindisasur se chudai ki kahaniboss ki beti ko chodanatin ko chodasexy story with imagekaamwali ki gaandaunty sex story hindibahu ki chudai hindi storymakan malkin aunty ki chudaiporn kahanivillage sex story hindibahan ki chudai dekhimassage karke chodabadi didi ki chootreal sex story in hindirandi padosan ki chudaiprincipal ne chodasuhaagraat chudai storyindianpornstoriesdesi gay kahanimummy ki saheli ki chudaihindi sex storebaap beti sex story hindiantarvaasna combhai ka lund chusawww antarvasna hindibua ki chudai ki kahanihindi sex story 2017chut se khun nikalamaa ki chudai kahani in hindigalti se chud gayiboobs dabayesasur ne gaand maripregnant behan ko chodahindisexystoryhindi font chudaisexstoryin hindibahoo ki chudaihindi sex stories netmausi ki chudai ki kahani in hindividhwa aunty ko chodathukai comhindi saxy storyladke ki gand mariantervasan comgangbang ki kahani